Thursday, October 3, 2019

Vidya vivaadaaya-Sanskrit subhashitam

🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩
*विद्या विवादाय धनं मदाय,*              
*प्रज्ञाप्रकर्षः    परवंचनाय।*                  
*अत्युन्नतिर्लोकपराभवाय,*                  
*येषां प्रकाशः तिमिरं हि तेषाम्।।*                                 
🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩
भावार्थ-- *जिस व्यक्ति के लिए  विद्या विवाद का साधन है, धन मद का साधन है, ज्ञान का प्रकर्ष दूसरे को ठगने का साधन है एवं अत्यधिक उन्नति लोगों के  तिरस्कार का साधन है , ऐसे व्यक्तियों के लिए प्रकाश भी अन्धकार है।।*  
🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩        
*The person for whom, Vidya is the instrument of controversy, money is the instrument of arrogance, the scope of knowledge is the means of deceiving others, and excessive advancement is the means of disgusting people, light for such persons is also darkness.*
🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩            
*आपका आज का दिन मंगलमय हो।*
   *🙏🌹🚩सुप्रभातम् 🚩🌹🙏*

No comments:

Post a Comment