Wednesday, December 26, 2018

Sanskrit subhashitam

|| *ॐ* ||
            " *सुभाषितरसास्वादः* "
---------------------------------------------------------------
            " *व्यवहारनीति* " ( २८१ )
----------------------------------------------------------------
*श्लोक*----
  " सत्यानुसारिणी  लक्ष्मीः  कीर्तिस्त्यागानुसारिणी ।
अभ्याससारिणी  विद्या ,  बुद्धिः  कर्मानुसारिणी " ।।
------------------------------------------------------------------
*अर्थ*----
लक्ष्मी  हमेशा  सत्य  के  पीछे  आती  है ।  कीर्ती  त्याग  के  पीछे  जाती  है।  विद्या  अभ्यास  से  ही  प्राप्त  होती  है  और  बुद्धीपर  कर्म  का  ही  अंकुश  रहता  है ।
-----------------------------------------------------------------------------
*गूढ़ार्थ*----
सुदीर्घ  अनुभव  के  बाद  सुभाषितकार  ने  यह  मत  व्यक्त  किया  है।
लक्ष्मी, कीर्ती ,  विद्या  और  बुद्धी  यह  चार  जीवन  के  महत्वपूर्ण  अंग  है। 
हर  एक  व्यक्ति  को  यह  चार  प्राप्त  करने  की  तीव्र  इच्छा  रहती  है ।
यह  चार  चीजें   किसपर  आधारित  है  या  इनको  कौनसा  आधार  दिया  तो  जीवन  में  यह  स्थिर  और  सुस्थापित  होती  है  यह  सूक्ष्म अभ्यास  से  हमे  सुभाषितकार  बता  रहे  है -----
 लक्ष्मी  को  हमेशा  सत्य  की  बैठक  ही  चाहिए  झूठ  का  पैसा  हमेशा  ही  त्रासदायक  होता  है  और  वह  कभी  टिकता भी  नही  है ।
समाज  के  लिये,  देश  के  लिए  त्याग  करनेवालों  को  कीर्ती  मिलती  है ।
और  टिकती  भी  है ।  पैसा  और  सत्ता  यह  कीर्ती  की  बैठक  कभी नही  हो  सकती  ऐसी  कीर्ती  में  शाश्वतता  नही  होती ।
नया  विषय  पढ  कर  जान कर  और  समझ  कर  ही  विद्या  आत्मसात  कर  सकते  है ।  सर्वांग  से  समझ  में   आयी  तो  वह  विद्या  होती  है । और  फिर  उसे ध्यान  में  रखना  पडता  है । ' अनभ्यासे विषं  विद्या ' ऐसी  कहावत  है ।  
और  अच्छा  अभ्यास  होगा  और  विद्या  अच्छे  से  अंगीकृत  हो  गयी  है  तो  ही  बुद्धी  कर्मानुसार  प्रेरणा  लेती  है ।  बुद्धि  पर  हमेशा  कर्म  का  अंकुश  रहता  है ।  हम  कई  बार  देखते  है  कि  मनुष्य  अपेक्षा  से  विपरीत  बर्ताव  करता  है ।  हमेशा  विशिष्ट  तरह  से  बर्ताव  करने  वाला  मनुष्य अचानक  से  अलग  बर्ताव  करता  है । फिर  हम  कहते  है --
' विनाशकाले  विपरीत बुद्धि ' ।   यहां  पर  कर्मफलसिद्धान्त  भी  लागू  होता  है ।  माना  कि  हर  एक  व्यक्ति  को  बुद्धिस्वातन्त्र्य  है  पर  हमेशा  बुद्धि  योग्य  निर्णय  लेगी  ऐसा  हम  नही  कह  सकते ।
इतना  बडा  सिद्धांत  सुभाषितकार  ने  चार  चरणों  में  हमे कह  दिया ।
ऐसे  महान  लोगों  को  ह्रदय  से  नमन ।👏👏👏👏👏👏
---------------------------------------------------------------------------
*卐卐ॐॐ卐卐*
---------------------------
डाॅ.  वर्षा  प्रकाश  टोणगांवकर 
पुणे / नागपुर  महाराष्ट्र 
-----------------------------
🍁🌴🍁🌴🍁🌴🍁🌴🍁🌴🍁🌴🍁

No comments:

Post a Comment