Thursday, June 7, 2018

Buy ghee in loan and enjoy charisma-Sanskrit

|| *ॐ* ||
      " *सुभाषितरसास्वादः* "
-----------------------------------------------------------------------------------
   " *सामान्यनीति* " ( १०१ )
-----------------------------------------------------------------------------------
   *श्लोक*---
   " यावज्जीवं  सुखं  जीवेदृणं  कृत्वा  घृतं  पिबेत् ।
      भस्मीभूतस्य जीवस्य  पुनरागमनं कुतः " ।।
-------------------------------------------------------------------------------
   *अर्थ*----
यह  चार्वाक  दर्शन  का  तत्त्वज्ञान  है ।  चार्वाक  कह  रहा है  ---
   मनुष्यने  सुख  से  जिदंगी  यापन  करनी  चाहिए ।  सुख  और  मौजमजा करते  हुए  हमेशा  मस्त रहना  चाहिए ।  घी  और  रोटी  खानी  चाहिए ।
   एकबार  यह  देह  चिता  में  भस्म  हो  गया  तो  फिर ,  उसका  पुनरागमन  कहाँ ? जो  कुछ  है  वह  यही  देह  और  जीवन  है । मरने  के  बाद  स्वर्ग और  नर्क  किसने  देखा ? इसी  देह  में  मौज मजा  कर  लेनी  चाहिए ।  वर्तमान  ही  सच  है ,  भविष्य  का  किसने  देखा ?
---------------------------------------------------------------------------------
*गूढ़ार्थ*----
षड् दर्शन  में   तीन  दर्शन  नास्तिक  कहे  गये  है ।  और  उसमें  भी  चार्वाक  पुनर्जन्म  न  मानने  वालों  में  से  है ।  ऐसा  भी  कहा  जाता  है  की  इसका  जनक  देवगुरु  बृहस्पति  है ।  इसे *लोकायत* भी  कहा जाता  है । मोक्ष नाम की कोई चीज़  यह  दर्शन नही मानता ।  नास्तिक  दर्शनों  में  यह  अग्रगण्य  है ।  शारीरिक  सुख  ही इनका  परम लक्ष्य  है ।  और  इस  शरीर  का  विनाश  ही इनके  मत  में  मोक्ष  है ।  इसलिये  हमेशा  *चार्वाक* दर्शन  के  उदाहरण  के  लिए  प्रस्तुत  श्लोक  आता  है ।
   पर  सोचने  वाली  यह  बात  है  कि  आज  यह  दर्शन  पूर्ण रुप से  कहीं  भी  उपलब्ध  नही  है ।  हमारे  ऋषि-मुनियों  ने  कुछ  सोचकर  ही  इस  समाज  की  रचना  की  है ।  अगर  हम  देव  या  पुनर्जन्म  न मानेंगे  तो  किसी  को  कुछ  अच्छा  कर्म  करने  की  जरूरत  ही  नही  रहेगी ।  जिसको  जो  चीज  चाहिए  वह  दुकान  से  उठा  लेगा  जिसको  जो  लडकी  या  महिला  पसंद  आयेगी  वह  सिधे  उठा  ही  लेगा ।  समाज  और  संस्कृति  कुछ  भी  नही  रहेगा । इसलिये  आज  यह  दर्शन  के  श्लोक  बहुत  ही  कम  और  वह  भी  दुसरे  दर्शन  में  उपलब्ध  है ।
हमारी  भारतीय  संस्कृति  तो ----
" *वर्तितव्यरामादिवतनहिरावणादिवत्* " यह  काव्यप्रकाशकार  मम्मटाचार्य  के  कथन  पर  आधारित  है ।  रावण  दशग्रन्थी  होने  के  बावजूद  भी  वह  हमारा  आदर्श  नही  तो  एकवचनी श्रीराम  हमारे  
आदर्श  है ।  शायद  इसीलिए  हमारी  भारतीय  संस्कृति  विश्वप्रसिद्ध  है और  लोग  इसका  अध्ययन  करना  चाहते  है ।
----------------------------------------------------------------------------------
*卐卐ॐॐ卐卐*
-----------------------------------
डाॅ. वर्षा  प्रकाश  टोणगांवकर 
पुणे  / नागपुर  महाराष्ट्र 
------------------------------------
🍏🍎🍏🍎🍏🍎🍏🍎🍏🍎🍏🍎🍏