Monday, July 24, 2017

Sri Kanchi Paramacharyal paduka pancakam

श्री काञ्ची परमाचार्य पादुका पञ्चकम्
         ஸ்ரீ காஞ்சீ பரமாசார்ய பாதுகா பஞ்சகம்                

1. कोटि सूर्य समानाभां काञ्ची नगर चन्द्रिकाम् |
   கோடி சூர்ய ஸமாநாபாம் காஞ்சீ நகர சந்த்ரிகாம் |
    भजामि सततं भक्त्या परमाचार्य पादुकाम् |
   பஜாமி ஸததம் பக்த்யா பரமாசார்ய பாதுகாம் ||
 
2. सकृत् स्मरण मात्रेण सर्वैश्वर्य प्रदायिनीम् | 
   ஸக்ருத் ஸ்மரண மாத்ரேண ஸர்வைஶ்வர்ய ப்ரதாயினீம் |
    भजामि सततं भक्त्या परमाचार्य पादुकाम् ||
   பஜாமி ஸததம் பக்த்யா பரமாசார்ய பாதுகாம் ||
3. संसार ताप हरणीं जन्म दु:ख विनाशिनीम् |
  ஸம்ஸார தாப ஹரணீம் ஜன்ம து:க விநாஶினீம் |
   भजामि सततं भक्त्या परमाचार्य पादुकाम् ||
  பஜாமி ஸததம் பக்த்யா பரமாசார்ய பாதுகாம் ||

4. वैराग्य शान्ति निलयां विद्या विनय वर्धनीम् |
   வைராக்ய ஶாந்தி நிலயாம் வித்யா விநய வர்த்தனீம் |
   भजामि सततं भक्त्या परमाचार्य पादुकाम् ||
   பஜாமி ஸததம் பக்த்யா பரமாசார்ய பாதுகாம் ||

5. काञ्चीपुर महा क्षेत्रे कारुण्यामृत सागरीम् |
   காஞ்சீபுர மஹா க்ஷேத்ரே காருண்யாம்ருத ஸாகரீம் |
   भजामि सततं भक्त्या परमाचार्य पादुकाम् ||
  பஜாமி ஸததம் பக்த்யா பரமாசார்ய பாதுகாம் ||

6. पादुका पञ्चक स्तोत्रं य: पठेत् भक्तिमान् नर: |
   பாதுகா பஞ்சக ஸ்தோத்ரம் ய: படேத் பக்திமான் நர: |
   सर्वान् कामान् अवाप्नोति मुच्यते सर्व किल्बिषात् ||
  ஸர்வான் காமான் அவாப்நோதி முச்யதே ஸர்வ கில்பிஷாத் ||